उत्तरकाशीउत्तराखंडचमोलीचारधाम यात्रापर्यटनरुद्रप्रयाग

उत्तराखंड में 10 मई से शुरू हो रही चारधाम यात्रा, कहां कराएं रजिस्‍ट्रेशन, यहाँ जान लीजिए फुल डिटेल

केदारनाथ धाम, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री यात्रा की शुरुआत 10 मई से होगी. 10 मई को केदारनाथ धाम के साथ-साथ गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने के साथ ही चार धाम यात्रा शुरू हो जाएगी.

उत्तराखंड में महत्वपूर्ण चार धाम यात्रा शुरू होने वाली है. केदारनाथ धाम, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री यात्रा की शुरुआत 10 मई से होगी. 10 मई को केदारनाथ धाम के साथ-साथ गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने के साथ ही चार धाम यात्रा शुरू हो जाएगी. 12 मई को बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने के साथ ही चार धाम यात्रा पूरी तरह से शुरू हो जाएगी. इसी के साथ चारों धाम तक तीर्थयात्री पहुंच सकेंगे. इसको लेकर उत्तराखंड सरकार ने तैयारी शुरू कर दी है. चार धाम यात्रा के लिए बर्फ को हटाया जा रहा है. धामों तक पहुंच पथ का निर्माण किया जा रहा है. साथ ही, यात्रा को लेकर उत्तराखंड के सरकार की वेबसाइट को एक्टिवेट किया गया है. यहां से तीर्थयात्री ग्रीन पास ले सकते हैं. इसके अलावा ऑफलाइन पास की भी व्यवस्था की गई है. बिना पास के चार धाम यात्रा करना संभव नहीं हो सकेगा.

चार धाम यात्रा के लिए आप आधिकारिक वेबसाइट https://registrationandtouristcare.uk.gov.in/chardham-yatra-uttarakhand.php पर जाकर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं. वेबसाइट पर जाकर आप Chardham Darshan Live लिंक पर क्लिक करें. यहां से आप रजिस्ट्रेशन पोर्टल https://registrationandtouristcare.uk.gov.in/signin.php पर पहुंचेंगे. यहां आपको भारतीय और विदेशी तीर्थयात्रियों का टैब दिखेगा. बाई डिफॉल्ट भारतीय तीर्थयात्री रजिस्ट्रेशन विंडो खुलेगा. यहां पर आप अपना नाम, मोबाइल नंबर, टूर कंपनी नाम, राज्य का नाम, पासवर्ड और कंफर्म पासवर्ड डालकर साइनअप कर सकते हैं. इसी रजिस्ट्रेशन के आधार पर आपको चार धाम की यात्रा का ग्रीन पास मिल जाएगा. उत्तराखंड में देहरादून, हरिद्वार, ऋषिकेश और गुप्तकाशी जैसे स्थानों पर भी ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था की बात कही जा रही है. रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट जैसे स्थानों पर रजिस्ट्रेशन काउंटर मिल सकते हैं. आगे पढ़िए

चारधाम की यात्रा आप सड़क मार्ग या हेलिकॉप्टर से कर सकते हैं. यह यात्रा दिल्ली, हरिद्वार, ऋषिकेश या देहरादून से शुरू की जा सकती है. चारधाम की यात्रा के लिए बायोमेट्रिक रजिस्ट्रेशन अनिवार्य कर दिया गया है. चारधाम यात्रियों के लिए आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, या पासपोर्ट जैसे आवश्यक दस्तावेज को पास में रखना जरूरी है. चारधाम यात्रियों की सुविधा के लिए डीलक्स और बजट आवास की सुविधा मिलती है. हेलिकॉप्टर की बुकिंग आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से कर सकते हैं. इसके अलावा चलने में असमर्थ लोगों के लिए पालकी, घोड़ा और पिट्‌ठू की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है. साथ ही चार धाम यात्रा के दौरान ठहरने के लिए बहुत सारी सुविधाएं हैं. इसमें होटल, गेस्ट हाउस, रिसॉर्ट्स, आश्रम, धर्मशाला आदि मिल जाते हैं. लग्जरी और किफायती दोनों प्रकार के होटल मिलते हैं. गढ़वाल मंडल विकास निगम की ओर से हरिद्वार, ऋषिकेश, देहरादून, देवप्रयाग, श्रीनगर, रुद्रप्रयाग, कर्णप्रयाग, जोशीमठ, पीपलकोटी, गोविंद घाट, बद्रीनाथ, केदारनाथ, गुप्तकाशी, हरसिल और यमुनोत्री में सरकारी गेस्ट हाउस की सुविधा मिलती है.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड में दर्दनाक हादसा: तेज रफ्तार ट्रक ने डिलीवरी बॉय को कुचला, युवक की मौके पर ही मौत
Back to top button